जबरा जंगल में बैठी आवरा,
जग जननी जनम सुधार,
जग जननी जनम सुधार,
राठोड़ा कुल मझधार लीनो अवतार मैया,
राठोड़ा कुल मझधार लीनो अवतार,


मंदिर बनियों है बीच पहाड़ में जी,
लागे शोभा अपरम्पार,
सनमुख तालाब लम्बी पाल,
पिछवाड़े बाजार मैया,
सनमुख तालाब लम्बी पाल,
पिछवाड़े बाजार,


शाम तो सूरत लागे सुहावनी जी,
सुंदर पुष्पा रो श्रृंगार,
साडी सुरंगी लप्टेदार,
जड़िया जरक सितार मैया,
साडी सुरंगी लप्टेदार,
जड़िया जरक सितार,


शंख सेवा में विष्णु पुरियो,
ब्रह्मा चारो वेद पुराण,
ब्रह्मा चारो वेद पुराण,
धरेरे ध्यान त्रिपुरार,
माता के दरबार मैया,
धरेरे ध्यान त्रिपुरार,
माता के दरबार,


बावन भेरू ने चौसठ जोगणिया,
गावे निशदिन मंगलाचार,
गावे निशदिन मंगलाचार,
भगता री भीड़ अपार,
मैया के दरबार अम्बे,
भगता री भीड़ अपार,
मैया के दरबार,


दुखिया रा दुखड़ा पल में मेट दो जी,
जननी दया की दृष्टि धार,
जननी दया की दृष्टि धार,
मरता प्राणी रा प्राण उबार,
नैया डूबी जाय अम्बे,
मरता प्राणी रा प्राण उबार,
नैया डूबी जाय,


स्वर्ण मुकुट सोहे शीश पर जी,
केसर कंकू तिलक ललाट,
केसर कंकू तिलक ललाट,
चढ़े रे मिष्ठान भर भर थाल,
नाना के प्रकार मैया,
चढ़े रे मिष्ठान भर भर थाल,
नाना के प्रकार,


नहार फडुके बोले मोरियो,
छेड़े कोयल राग मल्हार,
छेड़े कोयल राग मल्हार,
नोपत शहनाई बाजे द्वार,
झालर री झंकार मैया,
नोपत शहनाई बाजे द्वार,
झालर री झंकार,


भक्त बद्री चैनराम को जी,
शिव शक्ति को आधार,
शिव शक्ति को आधार,
नाना शम्भू है बंसीलाल,
गावे बारम्बार मैया,
नाना शम्भू है बंसीलाल,
गावे बारम्बार,


जबरा जंगल में बैठी आवरा,
जग जननी जनम सुधार,
जग जननी जनम सुधार,
राठोड़ा कुल मझधार लीनो अवतार मैया,
राठोड़ा कुल मझधार लीनो अवतार,


भजन भंडार

जबरा जंगल में बैठी आवरा लिरिक्स